छत्तीसगढ़ किसान हेल्पलाइन 112 पर कॉल करके समस्याओं का हल करे

By | February 14, 2021

छत्तीसगढ़ किसान हेल्पलाइन डायल करें 112

किसान को अपने कृषि कार्य में हमेशा ही कुछ ना कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता है इसीलिए छत्तीसगढ़ सरकार ने किसान की समस्याओं के समाधान के लिए “टोल फ्री नंबर” छत्तीसगढ़ किसान हेल्पलाइन 112 जारी किया है 112 पर कॉल करके किसान अपने समाधान खोज सकते हैं

ऐसे ही केंद्र सरकार ने भी किसानों की सहायता के लिए टोल फ्री नंबर जारी किए थे  “1800-180-1551” किसान कॉल सेंटर के लिए है वहीं राज्य सरकार द्वारा भी किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए समय-समय पर कंट्रोल रूम में सहायता रूम के नंबर जारी किए हैं

 अभी छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने धान खरीदी एवं किसानों की अन्य समस्याओं के समाधान के लिए टोल फ्री नंबर जारी किए हैं

मुख्यमंत्री श्री ओम भूपेश बघेल ने प्रदेश के किसानों के हित के लिए एक बहुत बड़ा निर्णय लेते हुए किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए 112 कॉल सेवा सेंटर खोल दिया है जहां पर किसान अपनी समस्याओं का त्वरित तुरंत निदान पा सकते हैं

इस धान खरीदी सीजन तक किसानों को यह सेवा रहेगी डायल 112 की सेवाएं अभी आपात स्थिति में लोगों को सेवाएं दे रही है मुख्यमंत्री ने डायल 112 में किसानों से प्राप्त होने वाली समस्याओं को तुरंत निदान करने के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए हैं 

112 पर कॉल करके किसान किन किन समस्याओं का समाधान पा सकता है

 प्रदेश के किसानों के पंजीयन रकबे की एंट्री, रकबे की कमी, गिरदावरी में किसी प्रकार की त्रुटि, धान बेचने में किसी प्रकार की समस्या और किसानों को किसी प्रकार की आर्थिक सहायता की आवश्यकता होने पर अब 112 पर कॉल करके अपनी समस्या का समाधान पा सकता है या फिर इस विषय में जानकारी ले सकता है डायल 112 के माध्यम से उनकी समस्याओं का तुरंत निदान किया जाएगा इसके लिए प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं और 112 पर किसानों द्वारा जो समस्या है या फिर शिकायतें दी गई हैं उन पर प्रत्येक सप्ताह मुख्य सचिव द्वारा उसकी कार्रवाई की जाएगी

 दुनिया भर के करीब 80 देशों में इमरजेंसी सेवा के हेल्पलाइन नंबर के तौर पर 112 ही उपयोग किया जाता है परंतु यह पहली बार है कि कोई राज्य सरकार इस नंबर को किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए जोड़ रही है इसलिए इस नंबर का उपयोग कृषि संबंधित शिकायतों के लिए छत्तीसगढ़ के किसान कर सकते हैं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *